शुक्रवार, 3 जनवरी 2020

कुछ जीवनोपयोगी दोहे-3




17:समय:

समय को कम न आँकिए,समय बड़ा बलवान।
भूपति भी निर्धन हुए, गया मान सम्मान।।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

18:उपासना:

कर उपासना ईश की,बिगड़े बनेंगे काज!
खुशियों की कुंजी यही, यही दिलाए ताज!
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

19:कल्याण:
राम नाम रटते रहो ,फिर होगा कल्याण ।
तर जाएगा जीव तू ,खुश होंगे भगवान।।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

20:संसार

देन लेन से चल रहा, यह झूठा संसार ।
गठरी बाँधे कर्म की,जाना है उस पार।।



7 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार(०५- ०१-२०२० ) को "माँ बिन मायका"(चर्चा अंक-३५७१) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    **
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर दोहे सुधा जी । सार्थक।

    जवाब देंहटाएं

पाठक की टिप्पणियाँ किसी भी रचनाकार के लिए पोषक तत्व के समान होती हैं ।अतः आपसे अनुरोध है कि अपनी बहुमूल्य टिप्पणियों द्वारा मेरा मार्गदर्शन करें।☝️👇