शनिवार, 11 जुलाई 2020

दोहे-वर्षा ऋतु



1:दादुर: 

दादुर टर- टर बोलते,बारिश की है आस। 
बदरा आओ झूमके, करना नहीं निराश।।
 
2 :हरीतिमा: 

वृक्ष धरा पर खूब हो,  भरे अन्न भंडार ।
हरीतिमा पसरे यहाँ, हो ऐश्वर्य अपार।। 

3:वारिद::

वारिद काले झूमके, करते जब बरसात। 
मोर पपीहा नाचते, हों आह्लादित पात।। 

4:चातक:

ताके चातक स्वाति को, होकर बड़ा अधीर। 
पीकर बूंदे स्वाति की , मिटती उसकी पीर।। 

5:दामिनी :

अम्बर चमके दामिनी, बचकर रहना यार। 
जो उसके मग में पड़े , करती उसपर वार।। 

6:कृषक :
*कृषक* उगाता अन्न है,रखता सबका ध्यान। 
रात दिवस उद्यम करे, मिले न लेकिन मान।। 

7:पछुआ :

जब समीर पछुआ बहे ,गर्मी तब बढ़ जाय। 
पानी की हो तब कमी, लू तन को झुलसाय।।

8:पावस :

तपन बढ़े जब ग्रीष्म से , आए *पावस* झूम। 
पशु पक्षी तब नाचते, मचे खुशी से धूम।। 

9:वृक्षारोपण :

वृक्षारोपण कीजिए, फिर होगा कल्याण। 
खिल जाएगी ये धरा, होगा सबका त्राण।।

10:बरसात :

माह सावन बीत गया,कृषक हुए हैरान। 
बूंद इक भी नहीं गिरी,घर में अन्न न धान।।

17 टिप्‍पणियां:

  1. "विधा" के ज्ञान से हीन मूढ़, क्या जाने दोहे-चौपाई।
    प्रतिक्रिया में भला क्या लिखूँ, कछु समझ ना आई ।।

    (१)
    अम्बर चमके दामिनी, बचकर रहना यार।
    जो उसके मग में पड़े , करती उसपर वार।।

    तड़ित-चालक ही लगाना, है बस यही एक उपाय।
    दामिनी घर भी बचे, और मानव भी बच जाए ।।

    (२)
    *कृषक* उगाता अन्न है,रखता सबका ध्यान।
    रात दिवस उद्यम करे, मिले न लेकिन मान।।

    मानसिक श्रम का ही है, जग में ज्यादा मोल।
    बाक़ी शारीरिक श्रम की क़ीमत, बस गोलमटोल।।

    जवाब देंहटाएं
  2. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार (06-07-2020) को 'मंज़िल न मिले तो न सही (चर्चा अंक 3761) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    -रवीन्द्र सिंह यादव

    जवाब देंहटाएं
  3. दामिनी पछुआ पावस ... कमाल के दोहे हैं ...
    वर्षा का आभास हो रहा है ... सुंदर अति सुंदर ...

    जवाब देंहटाएं
  4. बेहद शानदार दोहे दी।
    लाज़वाब भाव और शब्द-संयोजन भी बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर दोहे ...बेहतरीन .

    जवाब देंहटाएं
  6. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा रविवार (२६-०७-२०२०) को शब्द-सृजन-३१ 'पावस ऋतु' (चर्चा अंक -३७७४) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर... लाजवाब दोहे..।
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह सुधा जी पावस ऋतु की तरह ही मोहक दोहे ।
    बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं

पाठक की टिप्पणियाँ किसी भी रचनाकार के लिए पोषक तत्व के समान होती हैं ।अतः आपसे अनुरोध है कि अपनी बहुमूल्य टिप्पणियों द्वारा मेरा मार्गदर्शन करें।☝️👇