Friday, 27 March 2020

हल ढूँढते हैं...

हल ढूँढते हैं :

आओ मिलजुल के हम कोई हल ढूँढते हैं।
चलो साथी कुछ अच्छे पल ढूँढते हैं ।

गिरवी हैं बड़े अर्से से ईमान जिनके मंडी में
हर बशर में आदमीयत वो आजकल ढूँढते हैं ।

जिस समंदर ने रगड़ा है घावों पर नमक
उसी समंदर में चलो मीठा जल ढूँढते हैं।

रंज - ओ - ग़म की न हों कोई परछाईयाँ
चलो साथी ख्वाबों का स्थल ढूँढते हैं।

बाजार नफ़रतों का बहुत गर्म है आजकल
कर सके उसे ठंडा वो नल ढूँढ़ते हैं।

उन नकाबपोशों ने मुझे लूटा है बहुत बार
जो न ओढ़े कोई नक़ाब वह शकल (शक्ल) ढूँढते हैं।

इन्तहा हो गई है अब मेरे सब्र की भी यारों
आज आओ उस सब्र का भी फल ढूँढते हैं।






Thursday, 26 March 2020

कुंडलियाँ -29

29:

बाती:
बाती में जब लौ न हो, गृह अँधियारा होत ।
बिन कष्टों के सुख नहीं, बदलो अपनी पोत ।।
बदलो अपनी पोत, हमें बाती सिखलाती ।
हो अंधड़ से रार, जीत का राज बताती।।
अँधियारा दे चीर, साथ घृत का जब पाती ।
करती ऐसा कर्म, कीर्ति है पाती बाती।।

पोत(संस्कृत) :ढंग, प्रवृत्ति











Monday, 23 March 2020

कुछ जीवनोपयोगी दोहे - 5


25:कर्म :
माफी गलती की मिले, जुर्म क्षमा कब होय!
पीछे पछताना पड़े,पाप बीज जब बोय!!

26:सद्भावना :
आदर सबका कीजिए,रखिए मन सद्भाव!
परिसर में पसरे खुशी,तन मन लगे न घाव!!

27:खुशी:
मारा - मारा मृग फिरे, कस्तूरी की खोज!
मन अन्तर खुशियाँ छिपी,ढूँढ न बाहर रोज!!

28: जीवन:
राहें काँटों से भरी, जीवन की यह रीत।
पंथ बीच रुकना नहीं, मत होना भयभीत।।

29: नमस्ते
हाथ जोड़ कर कीजिए,सबका ही सम्मान।
व्याधि से भी दूर रहें , बढ़े जगत में मान।।

30: स्वच्छता
सुंदर हो वातावरण,किंचित हो न अशुद्ध।
साफ़ सफ़ाई कीजिए,बनिए सभी प्रबुद्ध।।







Sunday, 22 March 2020

कोविड-2019 - कुंडलियाँ



1-
इक व्याधि ऐसी पसरी,कोविड जिसका नाम
त्राहि त्राहि जनता करे, हमें बचाओ राम ।।
हमें बचाओ राम, करो विषाणु से रक्षण।
ज्वर,ज़ुकाम अरु दस्त, खास ये इसके लक्षण
साबुन से धो हाथ, खाइए भोजन सात्विक।
रहिए सबसे दूर, फैली ऐसी व्याधि इक ।।

2-
बातें कोविड की सुनो , लाया है पैगाम ।
स्वच्छता की दे शिक्षा ,कहता करो प्रणाम।
कहता करो प्रणाम,जियो अनुशासित जीवन
सुखमय रहे समाज, बने वसुधा व‍ह उपवन
सात्विक हो आहार, बीते दिन श्रेष्ठ रातें ।
त्यागें पशुता आज, सुने कोविड की बातें। 

Wednesday, 18 March 2020

कहमुकरियाँ - 2



Jhumka 

7: अंजन

श्याम वर्ण मुझे खूब लुभाता।
आँखों में मेरी बस जाता।।
हम दोनों का प्यारा बंधन।
क्या सखि साजन?
ना सखि अंजन....


8: गाँव

मुझको अपने पास बुलाता।
ना जाऊँ तो जी अकुलाता।।
देता मुझे वो सुख की छाँव।
क्या सखि साजन?
 नहीं सखि गाँव...


9: समंदर

अस्थिर कभी, कभी ठहरा है।
उसका हृदय बड़ा गहरा है।।
नमक खूब है उसके अंदर।
क्या सखि साजन?
नहीं समंदर...

10:अखबार

बात ज्ञान की वह बतलाता।
खबरें रोज नई व‍ह लाता।।
सबकी पोल खोलता यार।
क्या सखि साजन?
नहीं अखबार...

11: मोबाइल

बिन उसके मैं चैन न पाऊँ।
नहीं मिले तो मैं घबराऊँ।।
देखूँ उसे तो आए स्माइल।
क्या सखि साजन?
नहीं मोबाइल...


12:झुमका

गालों को व‍ह जब तब चूमे।
झूमूँ मैं तो व‍ह भी झूमे।।
चाहूँ जैसे लगाए ठुमका।
क्या सखि साजन?
ना सखि झुमका..

सुधा सिंह 'व्याघ्र'