रविवार, 5 जनवरी 2020

हायकू


हायकू-
घना कुहरा~
लाठी टेके चलता
बूढ़ा आदमी!

अँधेरी रात~
दूर से आती
झींगुरों की आवाज।

भोर की लाली~
चूल्हे पर खौलती
गुलाबी चाय।

जोर की आँधी~
कपड़े उतारती 
डोरी से गोरी।

तेज बारिश~
पेड़ के नीचे कुत्ता
कंपकपाता 








12 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर वातानुकूलित हाइकु

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद ऋतु जी।शायद इतने सुहावने वातावरण का कमाल है।������

      हटाएं
  2. हाइकु तो ठीक है, पर तुम्हारी कविता अत्यधिक प्रभावशाली होती है। उसे मत भूलना। हम भारतीय हैं और यही हमारी मूल शैली है।
    शुभकामनाओं सहित । एक भाई।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत धन्यवाद भाई।डाँटने के लिए ही सही आप ब्लॉग पर आए तो।

      हटाएं
    2. पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा जी हाइकु से वैर भाव इसलिए कि वो जापान से आयातित है... हम तो मानते हैं कि "जब वेद में 5 वर्ण और 7 वर्ण की ऋचाएं हैं तो बौद्ध धर्म के साथ जापान जाकर पुन: भारत आगमन हुआ है...

      हटाएं
  3. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (06-01-2020) को 'मौत महज समाचार नहीं हो सकती' (चर्चा अंक 3572) पर भी होगी।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं…
    *****
    रवीन्द्र सिंह यादव

    जवाब देंहटाएं

पाठक की टिप्पणियाँ किसी भी रचनाकार के लिए पोषक तत्व के समान होती हैं ।अतः आपसे अनुरोध है कि अपनी बहुमूल्य टिप्पणियों द्वारा मेरा मार्गदर्शन करें।☝️👇