Wednesday, 6 February 2019

धुंँधले अल्फाज़..




छूटा कुछ भी नहीं है ।
जिन्दगी के हर सफ़हे को
बड़ी इत्मीनान से पढ़ा है मैंने।
मटमैली जिल्द चढ़ी वह किताब
बिलकुल सही पते पर आई थी।
अच्छी तरह से उलट - पलट कर
बड़े गौर से देखा था मैंने उसे।
उस पर मोटे मोटे हर्फों में
मेरा ही नाम लिखा था।

खिन्न हो गई थी मैं
उस किताब को देखकर।
रद्दी से पुराने जर्द पन्ने
जिन्हें चाट गए थे दीमक।
लगता था छूते ही फट जाएंगे।
इसलिए झटके से
एक किनारे कर दिया था उसे।
पर उस डाकिये ने
अपनी धारदार तलवार
रख दी मेरी गर्दन पर।
और खोल कर दे दिया पहला पन्ना.
बड़े कठिन थे उसके अल्फाज।
अनसुने , अनजाने , अनदेखे से
लफ्ज पढ़े ही नहीं जा रहे थे।

पुकार रही थी मैं
सभी अपनों को।
पर सब के हाथ पैर
जकड़ दिए थे जंजीरों से।
और मुँह पर ताला भी
जड़ दिया था उस सैय्याद ने
कि कोई और न पढ़ सके।
कितनी ही मिन्नतें की थी
उस डाकिये से।
पर संगदिल वह
अड़ा रहा अपनी जिद पर।

बहुत पीछे छूट गये थे वे लम्हें
जब स्वर्णिम रंगों से लबरेज
मदमस्त चितचोर चंचल
तितली की तरह
उड़ती फिरती थी मैं .

यह तितली पढ़ने लगी थी अब
बड़ी शिद्दत से
अपने नाम की भद्दी खुरदुरी सी वह किताब..
उजले स्याह सफ़हों में लिखे
धुंधले महीन अल्फाज
समझ से परे रहे थे
फिर भी लगातार पढ़ रही थी कि
जल्दी से पूरी करके
निकलूँ फिर से
आसमान की स्वच्छंद सैर पर।

बीत गया एक अरसा
पढ़ने और समझने में।
झर गए सारे पंख।
पर कुछ मजमून अभी
भी समझ नहीं आये।
क्लांत, शिथिल मैं
अब उड़ान की ख्वाहिश नहीं रही।

बनकर अनसुलझी पहेली
कुछ अक्षर अभी भी
खड़े हैं मेरे सामने।
पूछूँ किससे कोई नजर नहीं आता।

न जाने डाकिया जाएगा कब
और यह किताब कब होगी पूरी।

सुधा सिंह 📝




18 comments:

  1. वाह आदरणीया बहुत सुंदर.....उम्दा

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आँचल जी. स्वागत है आपका 🙏🙏

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (08-02-2019) को "यादों का झरोखा" (चर्चा अंक-3241) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन शब्दों के भीतर छिपे विभिन्न सत्य : ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय मेरी रचना को ब्लॉग बुलेटिन में शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार 🙏 🙏 🙏 सादर नमन

      Delete
  4. पुकार रही थी मैं
    सभी अपनों को।
    पर सब के हाथ पैर
    जकड़ दिए थे जंजीरों से।
    और मुँह पर ताला भी
    जड़ दिया था उस सैय्याद ने
    कि कोई और न पढ़ सके।
    कितनी ही मिन्नतें की थी
    उस डाकिये से।
    पर संगदिल वह
    अड़ा रहा अपनी जिद पर।... बेहद मार्मिक अभिव्‍यक्‍ति सुधा जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया सखी. सादर 🙏 🙏

      Delete
  5. बहुत बढ़िया कविता लिखी है आपने। बधाई।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया नीतीश जी. 🙏 🙏 🙏 सादर

      Delete
  6. सुंदर भावपूर्ण रचना, तत्सम और विदेशज शब्दों का सुंदर तालमेल। कविता आपके मन से जुड़ती भी है और कुछ हद तक.छुपी भी रहती है ,.यह इसका सौंदर्य है।

    ReplyDelete
  7. इतनी सुंदर प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत शुक्रिया Raravi जी. स्वागत है आपका 🙏 मेरे ब्लाग पर

    ReplyDelete
  8. बीत गया एक अरसा
    पढ़ने और समझने में।
    झर गए सारे पंख।
    पर कुछ मजमून अभी
    भी समझ नहीं आये।...बहुत सुन्दर सखी
    सादर

    ReplyDelete
  9. अनीता जी सादर आभार सखी. 🙏 🙏

    ReplyDelete
  10. वाह अंतर मन का उद्वेग जैसे फूट पड़ ना चाहता हो।
    जीवंत रचना मन के उद्दगार।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया जी. हृदयतल से स्वागत है आपका मेरे ब्लॉग. स्नेह बनाये रखें.

      Delete
  11. कितनी ही मिन्नतें की थी
    उस डाकिये से।
    पर संगदिल वह
    अड़ा रहा अपनी जिद पर... मार्मिक अभिव्‍यक्‍ति

    ReplyDelete
  12. अच्‍छा लगा आपके ब्‍लॉग पर आकर....आपकी रचनाएं पढकर और आपकी भवनाओं से जुडकर....

    ReplyDelete
  13. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय 🙏 🙏 देर से प्रतिक्रिया देने के लिए क्षमा करें. 🙏 🙏

    ReplyDelete

पाठक की टिप्पणियाँ किसी भी रचनाकार के लिए पोषक तत्व के समान होती हैं ।अतः आपसे अनुरोध है कि अपनी बहुमूल्य टिप्पणियों द्वारा मेरा मार्गदर्शन करें।