Monday, 19 June 2017

बेचारा बछड़ा

देख रही हूँ आजकल कुछ नए किस्म की गायों को
जो अपने नवजात बछड़े की
कोमल काया को
अपनी खुरदुरी जीभ से चाट चाट कर लहूलुहान कर रही है!
इस सोच में कि वह उन पर प्यार की बरसात कर रही है!
उनपर अपनी ममता लुटा रही है उन्हें सुरक्षित महसूस करा रही है!
पर इस बात से अनजान कि
वह खुद ही अपने बच्चे को कमजोर बना रही है!
इस बात से अनजान कि बछड़े के शरीर से
रक्त श्राव हो रहा है धीरे धीरे!
वह रक्त कोई और नहीं,
माँ ही पी रही है धीरे धीरे!
     
माँ का स्पर्श पाकर बछड़ा मगन था!
वह से उससे इतना जुड गया था कि उसे दर्द का एहसास भी नहीं होता था!
एहसास थाउसे माँ के प्रेम का, दुलार का,
पर बेखबर था अपनी कमजोर होती काया से!

बछड़ा धीरे धीरे बड़ा तो हो गया पर
अपने पैरों पर खड़ा होना सीख न पाया, चलना सीख न पाया.
वह मां की ममता तले इतना दब गया कि
 वह दुनिया का सामना करने लायक
न बन पाया, वह निर्बल था.

उसका इतना जतन हो रहा था!
कि जाने अनजाने कब उसका पतन हो गया, पता ही नहीं चला.
बेचारा बछड़ा....