Friday, 24 July 2015

ज़िंदगी


ज़िंदगी,तुझे हक है कि तू मुझे आजमाये।
तुझे हक है कि तू मेरे आँगन में मुस्कराये।
तेरी मौजूदगी ,हर पल मुझे जीने का एहसास दिलाती  है।
तेरी विद्यमानता ,हर पल मेरा हौसला बढाती है।
जिंदगी तेरे बहुतेरे रुप
तू कभी छाँव है तो कभी है धूप।
तू है तो मुझमें स्पंदन है।
कभी खुशियां हैं, तो कभी क्रंदन है।
तू है तो मुझमें मैं जिंदा हूँ।
तू है तो मैं उड़ता हुआ परिंदा हूँ।
इसलिए तुझे हक है कि तू मुझे आजमाये।
तुझे हक है कि तू मेरे आँगन में मुस्कराये।


जिंदगी तू कभी बदरंग नज़र आती है।
तो कभी इंद्रधनुषी रंग में खिलखिलाती है।
तू कभी मार्गदर्शक सी लगी।
तो कभी भटकन सी नज़र आई।
तू कभी भव्य सी लगी।
तो कभी मामूली पड़ी दिखाई।
तू कभी  कड़ा इम्तिहान  लेती है।
तो कभी अव्वल अंको से पास भी कर देती है।
इसलिए तुझे हक है कि तू मुझे आजमाये।
तुझे हक है कि तू मेरे आँगन में मुस्कराये।