Friday, 14 October 2016

आखिर कितने खुदा......

तू तो खुदा है
तेरे पास  बहुतेरे काम होंगे ....
लाखों करोड़ों सवाल होंगे...
इसलिए हमारी छोटी- छोटी मुश्किलों के लिए तेरे पास समय नहीं ,
पर उनका क्या ??????
जो मेरी तरह साधारण मनुष्य है ।
हाड़ - मास के पुतले हैं
फिर भी खुद को खुदा समझते हैं।
हमारे छोटे -मोटे सवालों के जवाब देना...
उन्हें जरुरी नहीं लगता।
उन्हें अपनी शान में गुस्ताखी लगती है।
पर अपनी ही तरह दूसरे खुदाओं की शान में कसीदे पढ़ते हैं।
उनके गुणगान करते हैं.......
मुझे समझ नही आता....
तेरे अलावा और कितने खुदा हैं इस धरती पर प्रभु?
मुझे किसकी शान में झुकना है?
कुछ और भले नहीं, पर इसी सवाल का जवाब मुझे दे दो  प्रभु।
मेरा इतना हक़ तो बनता ही है।
मुझे इंतजार है तेरे जवाब का...
तेरे इन्साफ का......