Sunday, 23 April 2017

अहसास

इल्म है मुझे कि तुम मेरे दुख का सबब भी न पूछोगे,
सोचके कि कही तुम्हें आँसू न पोछने पड़ जाएं
शायद अनजान बने रहना
ही तुम्हें वाजिब लगता है.

सुधा सिंह