Wednesday, 30 December 2015

देखो ठण्ड का मौसम आया।


देखो ठण्ड का मौसम आया।

शीत लहर चली ऐसी कि,
सबको कम्बल में सिमटाया।
मन नहीं करता बिस्तर छोडूँ,
मौसम ठण्ड का इतना भाया।

'सूरज दा' करते अठखेली,
चारों ओर कुहासा छाया।
सुखद गुलाबी ठंडी का,
यह माह दिसम्बर मन को भाया।

ईख का रस और गुड़ की भेली,
देख के सबका मन ललचाया।
आलू और मटर की पूरी,
सबकी थाली में है आया।

चाय-पकौड़े मन को लुभाते,
स्वेटर का है मौसम आया।
लहसुन-मिर्च-नमक की चटनी,
साग चने का खोंट के खाया।

शुद्ध हवा और ताजी सब्जियां,
देखके सबका मन ललचाया।
'जल' लगता बैरी-सा सबको,
छूने से भी मन घबराया।

पशु-पक्षी सब दुबके रहते,
और ठिठुरती सबकी काया।
गांवों की हर गली में सबने,
मिलकर है अलाव जलाया।

देखो ठण्ड का मौसम आया।

सुधा सिंह