Tuesday, 7 July 2015

क्यों वह कहीं और रोप दी जाती है ?


क्यों वह  कहीं  और  रोप दी जाती है ?

जिस  बगिया में  वह अपनी  पहली  सांस लेती है ।
जिस उपवन  को  वह अपनी  खुशबू से  महकाती है ।
जिसे देखकर  माली के चेहरे पर मुस्कान छलक जाती है ।
क्यों वह कहीं और रोप दी जाती है ?

जिसे देखकर  चमन में बहार आती है ।
जिसे देखकर  भंवरों में  चंचलता  आती है ।
वह पूरी तरह खिल भी नहीं पाती है ।
फिर वह  क्यों  बेरहमी से  तोड़  दी जाती है ?

देखकर  जिसे ऋतु वसंत  को तरुणाई  आती है ।
देखकर  जिसे  बयार मंद  - मंद  मुस्काती है ।
क्यों उसकी  खुशियां  जमाने  को रास नहीं  आती हैं?
क्यों वह अपनी  ही  माटी  से  उखाड़  दी जाती है?

ये कैसी रीति है कि
उसे अपना घर  छोड़ना ही पड़ता है ।
उसे अपने  बाबुल से बिछड़ना ही पड़ता है ।
वह अपने छोड़ , दूसरों के सपने सजाती है ।
फिर  भी क्यों  वह पराई  कही जाती है ?

आखिर क्यों  वह  कहीं और रोप दी जाती है? ............